मायड़-भाषा राजस्थानी के विशाल सबदकोश को ऑनलाइन उपलब्ध करवाने के लिए यह कार्य किया जा रहा है। इसमें महामना भाषाशिल्पी पद्मश्री सीताराम जी लालस द्वारा संकलित "वृहत राजस्थानी सबदकोस" के सभी शब्दों को ऑनलाइन ढूंढने की व्यवस्था रहेगी।

इस समस्त कार्य को करने में लगभग १५ लाख रुपये खर्च होने का आंकलन है। आप सभी भाषा-प्रेमियों से इस पुनीत कार्य में सहयोग करने का विनम्र आग्रह है।

इस परियोजना की समस्त जानकारी को समय समय पर इसी वेबसाइट पर प्रदर्शित किया जाएगा अतः आप इस वेबसाइट को नयी जानकारी के लिए लगातार देखते रहें।