राजस्थानी सबदकोस परियोजना – ओळखाण

परियोजना ओळखांण: राजस्थानी सबदकोस नैं ऑनलाइन बणाय’र इणरी मोबाईल-एप अर वेबसाईट बणावणौ

मंडांण भूमिका: भाषा मिनख रा विकास रौ सबसूं महताऊ साधन छै। भाषा री मारफत ही मानव आपरौ सांस्कृतिक अर भौतिक विकास करियौ, पण इणरै साथै आ भी साच छै’क मिनख रै बधापा रै सागै-सागै भाषा रौ भी विकास होवै। इण दीठ सूं दोनूं रौ विकास एक दूजा माथै टिकियो थकौ छै। राजस्थानी भाषा आपणी सबळी साहित्तिक हेमांणी अर लगेटगै अढाई लाख सबदाँ सूं ई बडा सबद भंडार रै साथै भारत री सगळी प्रादेशिक भाषावां में आपणी ठावी ठौड़ राखै। इणरै बावजूद आ देखण में आवै’क राजस्थानी भाषा रै वास्तै प्रदेश रा भाषा-साहित्त रा पढेसरां/शौधेसरां री रुचि कम व्ही। इक्कीसवौ सईकौ डिजिटल तकनीक रौ जुग छै जिणमें आज रा मोट्यार, ज्ञान नै इन्टरनेट, मोबाइल इत्याद ऑनलाइन साधनां सूं पावै | ऐड़ा में आ बौत जरूरी छै’क राजथानी भाषा री सबळी साहित्तिक धरोहर अर मायड़ भाषा रा सबदकोश नैं डिजिटल आंगणा में उपलब्ध करायौ जावै। ऑनलाइन सबदकोश मायड़ भाषा राजस्थानी रै भाषा हेताळुआं, कवेसरां, पाठकां अर भणेसरां रै वास्तै एक घणमूंघौ साधन सिद्ध होवैला।

ऑनलाइन सबदकोश पूरौ बण’र किसौ लागसी इणरौ लगेटगै अंदाजो आप गुजराती ऑनलाइन सबदकोश “भगवद-गोमंडळ”रै वेबसाइट नैं देख’र लगा सकौ। इण वास्तै आप अठै क्लिक करौ सा

काम रौ आकार : राजस्थानी भाषा रे सबदकोशां रा इतिहास में जावां तौ न्यारा गुणीसरां रा केई तरै रा सबदकोश मिलै। जियाँ ‘पाइयलच्छीनाममाळा’, ‘अभिधानचिन्तामणिनांममाळा’, ‘अनेकारथी संग्रै’, ‘देसी सबद संग्रै’, ‘डिंगळ-नांममाला’, ‘नागराज डिंगळ कोस’, ‘हमीरनांममाळा ’, ‘अवधान-माळा ’, ‘डिंगळो कोस’, ‘अनेकारथी कोस’, ‘एकाखरी कोस’, ”एकाखरी-नांममाळा ’, ‘मान-मंजरी’, ‘राजस्थानी सबदकोस’ इत्याद। ज्यूं ज्यूं नवा सबदकोश बणता गया त्यूं त्यूं उणां में सबदां री संख्या भी बधती गई। सबसूं बडौ संकलन डॉ. सीताराम जी लाळस “राजस्थानी सबदकोस” रै नाम सूं सन १९६२ में छपायौ, ७७७२ पानां रा इण बडा सबदकोश में कुल लगेटगै दो लाख सबद हैं अर साथै ई साथै राजस्थानी भाषा रै व्याकरण अर साहित्य री भी इणमें विगतवार जांणकारी छै। इणरै पछै इणीं सबदकोश रौ छोटौ रूप भी ‘राजस्थानी-हिन्दी छोटौ सबदकोस’ रै नाम सूं आयौ जिणमें सबदां री व्याख्या छोटी है पण सबदां री संख्या अब तक रा सगळा सबदकोशां में सबसूं वत्ती छै। सबदकोशां रै इण सबळा इतिहास नैं निजर में राखतां इण परियोजना में लगेटगै २,००,००० सबदां नै ऑनलाइन करण रौ अंदाजौ छै। ऑनलाइन करण वास्तै सबसूं पैली न्यारा-न्यारा सबदकोशां रा सबदां नैं डिजिटाइज़ करणौ पड़सी जिण वास्तै डाटा एंट्री करण रौ एक ऑनलाइन तंत्र बणैलौ जठै एक अधिकृत यूजर लॉग-इन कर’र सबदां नैं टाइप कर सकै। हर सबद नैं वांरा अलग अलग भाग (मूळ सबद, सबद प्रकार – संज्ञा, सर्वनाम आद, सबद रौ अरथ, इणरी उत्पत्त, पर्यायवाची, मुहावरा, कैवतां, संदर्भ, सबद प्रयोग इत्याद) में तोड़’र उण वास्तै बणायोड़ा न्यारा-न्यारा फील्ड में टाइप करणौ पड़सी जकौ खासौ अबखौ अर टैम खाऊ काम छै।

ओसतन एक आदमी एक दिन में १०० सबद तक री डाटा-एंट्री शब्द-विन्यास रै साथै-साथै कर सकेलौ इसौ म्हारा अनुभव रै आधार माथै आंकलन छै। (२,००,००० / १०० = २,०००) इण भांत इण गति सूं एक आदमी रै वास्तै औ करीब २, ५०० दिनां री डाटा-एंट्री रौ काम छै। जे एक साल में आपां ३०० कार्यदिवस मान’र चालां तौ (२,००० / ३०० = ६.६६) मतलब एक साल में ३०० कार्य-दिवस रै आधार माथै एक आदमी रै सारू औ काम लगेटगै ६.६ साल रौ छै अर इणीं आधार माथै जे ६-७ आदमी इण काम नैं एक साथै करै तौ वै इणनैं एक साल में पूरो कर सकैला।

डाटा-एंट्री होवण रै बाद इणनैं एक-दो बार एडिटिंग / प्रूफ रीडिंग कर’र प्रमाणिक करणौ पड़सी। इण पछै इणरौ ऑनलाइन-सबदकोश रौ सॉफ्टवेयर बणसी अर इणरी मोबाइल एप (एंड्राइड और आईफ़ोन पर) बणसी।

खरच रौ अंदाजौ : ६ लोगां री एक साल री सैलेरी @१५०००/-मईना दीठ मिनख (कंप्यूटर अर ऑफिस/सीट खरच समेत) रै हिसाब सूं १२ लाख रुपया अर सॉफ्टवेयर (ऑनलाइन वेब अर मोबाइल एप) बणावण रौ सगळौ खरच लगेटगै २ लाख रिपिया अर होस्टिंग सर्वर/बैंडविड्थ इत्याद नैं मिला’र लगेटगै १५ लाख रिपियां रौ सगळा परियोजना खरच रौ अंदाज छै। टीम रौ औ भरसक प्रयास रैसी’क इण परियोजना नैं जितरौ हो सकै कम सूं कम खरच करतां थकां पूरण करां। जे इण माँय सूं कुछ भी रकम बच सकी तौ उणरौ काम वेबसाइट नैं होस्ट करण वास्तै सर्वर रै किराये रै रूप में अर राजस्थानी भाषा रै विकास सूं जुड़िया किंणी काम में करीजसी।

कार्य योजना: १५ लाख री रकम जुटावण रौ काम सबसूं पैलौ छै। रकम घणी अणूंती तौ नीं छै। जे सिरफ १५० दानदाता भी १०, ००० रिपिया जणा दीठ सहायता करै तौ आ रकम ऐकठी हो जासी। औ ओसत आंकलन छै। कोई इणसूं कम या इणसूं अधिक भी सहयोग करै तौ स्वागत छै। आपणी सरदा अर सामरथ मुजब आप आपरै अंशदान रौ निरणै करजौ सा। सहायता रकम भेजण सूं जुड़ी जांणकारी रै वास्तै अठै क्लिक करौ सा