सहयोग/Donation

राजस्थानी-सबदकोस को डिजिटाइज़ करने की इस वृहत परियोजना के लिए आपका सहयोग सादर प्रार्थनीय है।

सहयोग राशी भेजने के लिए आप निम्न NGO अकाउंट का इस्तेमाल करें। यह NGO, 80-G के अंतर्गत इनकम-टैक्स विभाग से छूट प्राप्त है अतः सहायता राशी की रसीद पर आप टैक्स रिबेट भी पा सकेंगे

बैंक से सीधे NEFT/RTGS द्वारा ट्रान्सफर करने के लिए निम्न अकाउंट डिटेल का उपयोग करें:
  • Account Name: Kitaab Club
  • Account Type: Current Account
  • Account Number: 35926343823
  • Bank Name: State Bank of India, Baran
  • IFSC Code: SBIN0010490

नेट बैंकिंग अथवा क्रेडिट/डेबिट कार्ड द्वारा ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए आप सीधे इस लिंक पर क्लिक करें  तथा “Donate Now” बटन दबाएँ।

आर्थिक सहयोग के अतिरिक्त इस वृहत परियोजना को सफल बनाने के लिए हमें अनेक Professionals एवं भाषाप्रेमी स्वयं सेवकों की भी जरुरत होगी जो निम्न कार्यों में अपनी मदद प्रदान कर सकें:

  • डाटा स्कैनिंग, टाइपिंग
  • प्रूफ रीडिंग
  • ट्रांसलेशन कार्य
  • पुरानी राजस्थानी लिपि एवं हस्त लिखित गांठों को पढने और समझने वाले विद्वान् / शोधार्थी

यदि आप में से कोई भी इस कार्य में मदद का इच्छुक है तो कृपया admin@charans.org पर मेल द्वारा संपर्क करे।


Your cooperation for this massive project of digitizing Rajasthani-Sabadkosh will be highly appreciated.

In order to send your contribution, please use the account details of following NGO. It is exempted under 80-G that enables you to claim the income-tax rebate on your donation.

Use following account to make a direct transfer from your bank via NEFT/RTGS:
  • Account Name: Kitaab Club
  • Account Type: Current Account
  • Account Number: 35926343823
  • Bank Name: State Bank of India, Baran
  • IFSC Code: SBIN0010490

You can also make online donation using NetBanking or Credit/Debit Card by clicking on this link  and then press “Donate Now” button.

Apart from financial help, this massive work will require support from many linguists, professionals, scholars, social workers etc who can help us in following work:

  • Data scanning, typing
  • Proof reading
  • Translation
  • Scholars and linguists who can read and interpret old manuscripts and writings.

If anyone wants to contribute in these areas, please write to admin@charans.org.